Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Thursday, 25 August 2011

माँ

'माँ'
फिर से चाहती हूँ
तेरे आँचल की छाँव
तेरा प्यार भरा स्पर्श..

तुम ही तो हो
'जो'
बिन बोले ही भांप जाती थी
'मेरे'
अंतर के सलवटों को ...

कई बार छुपा जाती थी 'मैं'
अपने बीमार होने की बात ,
'तब'
मेरी उतरी शक्ल देख कर जान जाती थी
मेरे बीमार होने की बात ...

आज तो कहने पर भी
कोई यकीन नहीं करता है ..
'तुम..?' और बीमार
कह कर हर सदस्य हंस पड़ता है ...

'माँ'
कहाँ हो 'तुम'
फिर से चाहती हूँ
तेरे आँचल की छाँव....

No comments:

Post a Comment