Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Sunday, 11 September 2011

Bhawnayein

एक दिन ,
भावनाओ की पोटली बांध
निकल पड़ी घर से ,
सोचा,
समुद्र की गहराईयों में दफ़न कर दूंगी इन्हें ..
कमबख्तों की वजह से ..
हमेशा कमजोर पड़ जाती हूँ ..
फेक भी आई उन्हें ..
दूर , बहुत दूर
पर ये लहरें भी 'न' .--
कहाँ मेरा कहा मानती हैं ..
हर लहर ....
उसे उठा कर किनारे पर पटक जाती ,
और वो दुष्ट पोटली ..
दौड़ती भागती मेरे ही कदमो में आ रूकती …
उठा ले आई उसे, ये 'सोच कर '
कल फिर आउंगी , और फेंक दूंगी उन्हें
दूर 'बहुत दूर' .....
!!अनु!!

1 comment:

  1. सुन्दर भाव अभिव्यक्ति.
    भावनाओं की पोटली अनमोल है.
    संभाल का रख लीजियेगा न.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete