'प्रेम'

'प्रेम'
आज कल
रातें भीगी सी हैं ,
और 'दिन' भी
भीगा भीगा सा,
तुम्हारी यादों की सीलन,
मन के कोने कोने में,
महक रही है..
एक छोटी सी ख्वाइश,
अबके सावन,
तुम भी बरसो .. 



Comments

  1. क्या बात है ... थुम भी बरसो और सीलन बन के कमरे में उतरो ...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

शेर शायरी

'फिल इन द ब्लैंक्स'

***मुक्तक***