Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Friday, 1 August 2014

'प्रेम' 'संवेदना'

एक दिन
'बो' दी थी
संवेदना 'तुम्हारे'
नाम के साथ,
'और'
पनप उठा था प्रेम,
खिले थे फूल,
महक रही थी हवाएँ,
वो मादक हँसी लहरों की,
बरसे थे बादल
भींगा था 'मन'
इस पौधे को
साल -दर -साल
बढ़ने के लिए
चाहिए था,
तुम्हारा 'प्रेम'
तुम्हारा 'साथ'
तुम्हारी 'संवेदना'
इतना तो जानते हो न
कोई भी पौधा
बिना खाद पानी के
मुरझा जाता है,
'कदाचित'
इसकी किस्मत में
भी यही लिखा था,
मुरझा गया 'प्रेम'
सूख गयी 'संवेदना'
बचा रह गया 'ठूँठ'
'अब'
मुझमें नहीं पनपता 'प्रेम'
नहीं जन्मती 'संवेदना' !!अनुश्री!!  

1 comment: