Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Tuesday, 21 August 2012

मेरी कविता

तुम्हारा,
यूँ चले जाना,
'जैसे' विराम लग गया हो,
मेरी कविता पर,
क्या तुम्हे
जरा भी आभास नहीं,
कि तुम्हारे ही
इर्द - गिर्द घुमती है,
'मेरी कविता'
तुम हंसों तो,
हंस पड़ती है,
तुम्हारे आंसुओं संग,
रो पड़ती है,

इनमे न चमक है,
'तारों की'
न चाँद की
शीतलता,
न तपन,
सूरज की,
लहरें नहीं,
सागर नहीं,
दरिया नहीं,
पहाड़ नहीं,
सिर्फ और सिर्फ,
तुमसे ही है,
'मेरी कविता'..... !!अनु!!

3 comments:

  1. स्त्री भावों को सहज भावों में व्यक्त किया है आपने. एक बात कहना चाहूँगा कि अगर 'मेरी कविता' की बार-बार पुनरावृत्ति ना हो तो मुझे लगता है और भी ख़ूबसूरत और प्रवाहमयी कविता बन सकती है. माफ़ कीजियेगा अनुजी, ये सिर्फ मेरी राय है, मुझे ऐसा प्रतीत हुआ..
    सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए शुभकामनाएँ, आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. aap mere blog pr aaye.. yahi mere liye bahut abdi baat hai.. aap jaise log bhi meri kavitayein padhte hai.. maine sapne me bhi nahi socha tha.. aapki baaton pr gaur jarur karungi.. aur mujhe yakin hai.. aap aage bhi meri kamiyan mujhe batate rahenge..

      Delete
  2. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete