Text selection Lock by Hindi Blog Tips

Friday, 23 May 2014

तुम्हारा प्रेम

तुम्हारा प्रेम 
उधार रहा मुझ पर, 
क़िस्त -दर - क़िस्त 
चुकाना है मुझे, 
'तुम' 
मेरे जीवन के 
आधार स्तम्भ, 
मेरे मन के 
महासिन्धु में 
बहती जलधारा, 
स्नेह और प्रेम की
जो भाषा
तुमसे सीखी है,
ब्याज समेत
समर्पित करना
चाहती हूँ तुम्हें,
तुम्हारे लिए,
तुम्हारी ही 'मैं' !!अनुश्री!!



तमाम बंदिशों के बाद भी मुसलसल कोशिशें जारी रहीं, 
तेरी दीवानगी, हाँ दीवानगी ही सिर पे तारी रही 
फ़क़त तू ही नहीं लिखा था हाथों की लकीरों में, 
वर्ना तो सारी क़ायनात ही हमारी रही !!अनुश्री!!

Sunday, 11 May 2014

"माँ"

"माँ"
'कैसी हो तुम?'
'उम्मीद है, अच्छी होगी।'
यही दो - चार जुमले,
जो हर ख़त में लिखती हूँ मैं,
ये जानते हुए भी 'माँ'
कि अब 'तुम्हारा' शरीर
तुम्हारा साथ नहीं देता,
उम्र जो हो चली है,

जर्जर होती देह के साथ,
मन भी टूटता जा रहा,
और फिर
'पापा' भी तो नहीं हैं,
एक औरत के लिए,
इससे बड़ा घाव
कहाँ होता है 'कोई',

जानती हूँ,
रोती होगी, हर रात,
तकिये में मूँह छिपा कर,
भुगतती होगी,
अपना अकेलापन,
भरे पुरे परिवार
के बीच भी,

हर बार की तरह,
इस बार भी पड़ी होगी,
भीषण ठण्ड, 'पर',
ये ठंडी हवाएं भी,
नहीं सुखा पायी होंगी,
'तुम्हारी' आँखों का गीलापन,
'शॉल' हाथों में लिए,
इंतजार करती होगी,
कोई कहे 'तो,
'शॉल ओढ़ लो,
कान ढँक लो,
वर्ना ठण्ड लग जायेगी !!'
'और' रो पड़ती होगी,
ज़ार जार,

सब जानती हूँ मैं 'माँ',
लेकिन नहीं चाहती,
कि तुम्हारे जख्म कुरेद कर,
तुम्हे दुःख पहुँचाऊँ,
पल - पल 'तुम्हे'
तुम्हारी कमजोरी,
तुम्हारे अकेलेपन का
एहसास कराऊँ,

इसलिए माँ,
'सिर्फ' इसलिए,
अपने हर ख़त में
लिखती हूँ 'मैं',
"कैसी हो माँ ?
उम्मीद है, अच्छी होगी। "

!!अनुश्री!!